बच्चों को सिखाएं बचत का 'हुनर'

How do you teach kids about savings? (Pic: bhopalsamachar )

पैसों की बचत करना अपने आप में एक ऐसी कला है, जिसे आप दूसरों के लिए नहीं बल्कि अपने लिए बहुत कुछ जोड़ लेते है। बचत केवल मुसीबत में ही काम नहीं आती बल्कि खुशी के मौके में भी काम आती है। पैसों की बचत करना हर उम्र के व्यक्ति के लिए अनिवार्य है, लेकिन अगर बचत की आदत हम बचपन में ही सीख जाएं तो यह ज्यादा फायदेमंद होता है। 

बचपन में बचत के गुण सीखने इसलिए सही माना जाता है, क्योंकि  बचपन में सीखी गई हर चीज उनके लिए भविष्य में फायदेमंद साबित होती है। बच्चों के बचपन में ही बाकी सभी अच्छी आदतों के साथ-साथ पैसों की बचत करने वाली आदत भी बच्चों में  डालनी चाहिए। उन्हें पैसों की अहमियत के बारे में बताना चाहिए क्योंकि पैसा एक ऐसी चीज है, जिसके बिना जीवन केवल सांस लेने तक ही जिया  जा सकता है। परंतु जीवन की कई चाहतें और जरूरतें पूरी नहीं की जा सकती। 

असली बचत निजी जरूरतों को पूरा करके कमाई जाती है, मन की चाहतों को पूरा करके कभी बचत नहीं होती, क्योंकि इंसान की चाहत हर दिन और मिनट बदलती रहती है।

समय पर पैसों की बचत ना करके हम आने वाली बहुत बड़ी मुसीबत का शिकार बन जाते हैं जैसे कोविड-19 जैसे महामारी  के वक्त पैसों की बचत की अहमियत हर किसी को समझ आई है। जरूरत पड़ने पर  रिश्ते नातों से बढ़कर केवल बचत राशि ही काम आई है। इसलिए अपने बच्चों में इस उदाहरण का प्रयोग करके पैसों की बचत के महत्व को समझाएं अगर आपके बच्चे ज्यादा छोटे हैं तो आप उन्हें पानी की बचत, बिजली बचत, अन्य चीजों की बचत और सही प्रयोग से होने वाले फायदे के जरिए उन्हें बचत की सही परिभाषा को समझाएं। पैसों की बचत  से संबंधित अच्छी कहानियां, वीडियो दिखाएं।


 तो आइए जानते हैं कैसे आप अपने बच्चों में पैसों की बचत करने के तरीकों को समझा सकते हैं;


बचत है उपयोगी - आप अपने बच्चों को समझाएं कि पैसों की  बचत राशि भविष्य में उनके लिए हर सुख और दुख में काम आती है। पैसे जीवन के हर मोड़ पर साथ देता है फिर चाहे वह दुख हो या सुख, कहते हैं कि पैसों की जरुरत केवल मुसीबत में ही नहीं काम आती है बल्कि सुख के समय भी पैसा काम आता है। अगर आप अच्छी बचत कर पाते है तोः आप आगे चलकर अपनी चाहतों को भी  पूरा कर पाएंगे जैसे कि परिवार के साथ पिकनिक पर जाना, अपनी मनपसंद चीज खरीदना,  किसी अच्छे कार्यों में अपने द्वारा किसी को शगुन/ तोहफा देना आदि। 


निजी जरूरतों को दें  प्राथमिकता - असली बचत निजी जरूरतों को पूरा करके कमाई जाती है। मन की चाहतो को पूरा करके कभी बचत नहीं होती। इंसान की चाहत हर दिन और मिनट बदलती रहती है, ऐसे में जरूरी है कि बच्चों को पैसों की बचत के गुण सिखाने से पहले जरूरत और इच्छाओं के बीच अंतर समझाएं। कभी- कभी बच्चे ऐसी जिद करते है जो जरूरत से ज्यादा या गैर जरूरी होती है।  ऐसे में आप उनके द्वारा दी गई डिमांड को नजरअंदाज करें। अपने बच्चों को गैर जरूरी चीजों को खरीद कर होने वाले  नुकसान और फायदे के बारे में बताएं। अगर आपका बच्चा समझदार है तो उसके सामने ही परिवार के खर्चे और आने वाली चीजों की सूची बनाएं और बचत राशि के बारे में भी  उसे बताए।


शुरुआत करें गुल्लक से - गुल्लक एक ऐसी चीज है जिसमें आप अपनी छोटी से लेकर बड़ी राशि को जमा कर सकते हैं फिर चाहे वह ₹1 का सिक्का हो या ₹100 का नोट। बच्चों के लिए रंग बिरंगी या कार्टून जैसी गुल्लक लगाएं  ताकि उसमें पैसे जमा करने में उन्हें  दिलचस्पी होगी।


पैसों की मूल्य को समझाएं - पैसों के बिना कुछ भी नहीं खरीदा जा सकता अपने बच्चों के दिमाग में डालें। कुछ बच्चे केवल रुपए/ नोट की जमा करने को पैसों की बचत समझते हैं ऐसे में उन्हें एक एक रुपए के सिक्के के महत्व को बताते हुए, 'बूंद बूंद कर सागर कैसे भरता है यह बताने की कोशिश करें।


बच्चों की बचत राशि से खरीदें कुछ अनोखा - बच्चों द्वारा बचत पैसों से आप उनके लिए कोई खास उपयोगी चीज खरीदे जिसे देखकर उन्हें खुशी महसूस होगी और वह ऐसी अन्य चीजों के लिए पैसों की बचत करेंगे।


खेल के जरिए करें बचत - आप अपने बच्चे के साथ पैसों की बचत  गेम खेल कर बचत के गुण बच्चों में डाल सकते है। इसके लिए आप कुछ दिनों व महीनों में पैसे बचाओ का टारगेट दें, जिसमें सबसे ज्यादा पैसा जमा करने वाले को विनर घोषित करें और प्रोत्साहन दें। यह सबसे आसान तरीका है बच्चों में बचत परिभाषा को समझाने का।


बच्चों का सेविंग अकाउंट खोलें-  आजकल तो बच्चों के लिए तरह-तरह के सेविंग अकाउंट खुल चुके हैं, इसमें आप अपने बच्चों के लिए कुछ पैसे बचा सकते हैं इस बात की जानकारी भी अपने बच्चे को दें उन्हें भी पैसों की बचत करने में योगदान देने में भागीदार बनाएं। 

 

 जरूरी नोट: बच्चों में कोई भी अच्छे गुण डालने से पहले माता-पिता पहले खुद उस गुण के आदी बने। बच्चों को मेहनत करके पैसे कमाने और बचत करने के सही तरीके को बताएं। चोरी धोखाधड़ी या छीन कर पैसे कमाना कोई अच्छा विकल्प नहीं है। ऐसे विकल्पों को चुनकर होने वाले नुकसान के बारे में भी बताएं।


Article Title: How do you teach kids about savings?

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप भी बच्चे को कम उम्र में स्कूल भेजने के पक्ष में हैं! तो जान लें ये सच्चाई

"युगे युगे राम": 'मिथिलेश दृष्टि' (पुस्तक - समीक्षा)

उत्सव धर्मिता 'परिवार' का मूल है