कैसे बनायें लव मैरिज को सुपर पॉवरफ़ुल!

How To Make Happy Married Life (Pic: tenangles)

 शादी हर व्यक्ति के जीवन का अहम हिस्सा है, फिर चाहें वह अरेंज मैरिज हो या लव मैरिज। बात हम अगर दोनों में से किसी एक की करें तो लव मैरिज में थोड़ा ज्यादा एडजस्टमेंट और पेशंस नेचर की जरूरत पड़ती है, क्योंकि हमारे भारतीय समाज में आज भी लव मैरिज के लिए अलग  विचार रखे जाते हैं। लव मैरिज को लेकर लोगों में  अलग-अलग सोच हैं, कुछ लोग लव मैरिज को सही मानते हैं, तो कहीं कुछ लोग इसके खिलाफ भी है। 


माना जाता है कि लव मैरिज करना अपनी संस्कृति, अपने समाज और अपने परिवार के विपरीत जाना होता है, परंतु ऐसा नहीं होता, लव मैरिज का मतलब जिसे आप प्रेम करते हैं उसी से विवाह भी करते हैं और प्रेम करते वक्त कोई संस्कृति या जात पात नहीं देखा जाता। बदलते समय के साथ लोगों की सोच विचार में भी परिवर्तन आ रहे हैं ।आजकल लव मैरिज काही चलन जोरों में है।

 बहुत लकी होते हैं वो लोग  जो अपनी पसंद के पार्टनर के साथ शादी करते हैं और उनका परिवार उनका पूरा सहयोग भी देता है, नहीं तो अधिकतर लव मैरिज करने वालों को बहुत सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। कभी-कभी तो वह इस कार्य में सफल हो जाते हैं, तो कभी उन्हें अपने प्यार से जुदा होना पड़ता है। 


अगर आप भी लव मैरिज करने जा रहे हैं, तो आप में आत्मविश्वास, अपने प्यार के प्रति ईमानदारी, सही विचार और धैर्य का होना बहुत जरूरी है। इन्हीं सब चीजों से आप अपनी लव मैरिज को सक्सेसफुल बना सकते हैं ।

 लव मैरिज का मतलब केवल अपने जीवनसाथी को प्यार देना ही नहीं बल्कि उसे समझना, हर मोड़ में उसका साथ देना जीवन भर अपने प्यार के लिए पॉजिटिव रहना आदि से है।  

अधिकतर लोग लव मैरिज को एक खुले आसमान में देखे सपने की तरह समझते हैं जबकि यह उसके विपरीत होता है। शादी से पहले  प्रेमी और प्रेमिका की तरह रहना और शादी के बाद एक पति-पत्नी के रूप में रहने में काफी अंतर है, क्योंकि मैरिज से पहले आप एक दूसरे से मिलते रहते हैं लेकिन शादी के बाद आप एक जिम्मेदारियों में आ जाते हैं। 


आपका खुद का एक परिवार बन जाता है, जिसमें आप दोनों के बीच कुछ छुपा नहीं होता। आपके साथ अन्य परिवार के सदस्य भी जुड़ जाते हैं। ऐसे में बहुत सारी चीजों का सामना करना पड़ता है, जिनसे सही तरीके से बचने की आवश्यकता होती है, अन्यथा एक छोटी सी गलती आपकी प्यार भरी जीवन में नफरत पैदा कर सकती है। 

शादी के बाद आप गर्लफ्रेंड -बॉयफ्रेंड नहीं रहते, आप एक  पति-पत्नी के रूप में एक नए जीवन की शुरुआत करते हैं जिसमें आपके बोलचाल से लेकर  रहन सहन के ढंग  में भी परिवर्तन आता है। जैसे आप एक प्रेमी प्रेमिका के रूप में कुछ भी बोल देते थे वैसे अब सरेआम बोल पाना जायज नहीं रहता।

 आइए जानते हैं कि कुछ खास टिप्स जो लव मैरिज को बना सकता है सुपर पावरफुल


एक दसरे का करें सम्मान -  शादी के बाद आप अपने  लाइफ पार्टनर के  रिस्पेक्ट का ख्याल रखें। यह नहीं कि जैसे आप शादी से पहले अपना व्यवहार रखते थे, वही जारी रखा जाए। इसके साथ-साथ आप परिवार के अन्य सदस्यों को भी  पूर्ण रूप से आदर सम्मान दें ।


धैर्य /  विश्वास रखें - शादी के बाद भी आप अपने जीवन साथी पर पूरा विश्वास रखें अगर किसी कारण उसके व्यवहार में बदलाव नजर आता है, तो उससे बात करने की कोशिश करें और इस बदलाव के कारण को पूछें, क्योंकि शादी के बाद दोनों को  नए रूप से हर चीज को समझने में वक्त लगता है। ऐसे में कुछ बदलाव का आना लाजमी है। अपने पार्टनर द्वारा छोटी गलतियों को नजरअंदाज करें । गुस्सा करके बातों को ना बढ़ाएं। धैर्य के साथ हर परिस्थिति का सामना करें।


समय दें - चाहे आपका प्रेम विवाह दोनों परिवारों की सहमति के साथ हुआ हो फिर भी आप अपने परिवार वालों को समय दें। नए परिवार की रस्म -रिवाज और नियमों को समझें। परिवार के सदस्यों के साथ बैठे और बात करें, उनके साथ एक दोस्ती का हाथ बढ़ाएं। अगर किसी बात पर कुछ गलतफहमी महसूस हो रही हो तो उसी वक्त उन बातों को क्लियर करें। मन में कोई गलत विचार ना रखें अन्यथा रिश्तो की बीच खटास पैदा हो सकती है।


एडजस्टमेंट करें- अगर आपका प्रेम विवाह अपने ही संस्कृति या संस्कृति से अलग में हुआ हो तो एडजस्टमेंट करने की आदत डाल लें। यह  हर एक रिश्ते के लिए बहुत जरूरी है, इसके बिना रिश्ते की डोर मजबूत नहीं रहती। शादी के बाद आपके लिए हर चीज पहले जैसी नहीं रहती, नई चीज में खुद को ढालने में समय लगता है, इसके लिए एडजेस्टमेंट करना बहुत जरूरी है।


डिजिटल लाइफ से रहें दूर- मोबाइल फोन और इंटरनेट की दुनिया में ज्यादा  व्यस्तता रहने के कारण अधिकतर लोग खुद को भी समय नहीं दे पाते जिसका प्रभाव उनके निजी जीवन में भी पड़ता है, इसीलिए डिजिटल लाइफ को  जरूरत से ज्यादा प्रयोग ना करें।


Article Topic: How To Make Happy Married Life

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप भी बच्चे को कम उम्र में स्कूल भेजने के पक्ष में हैं! तो जान लें ये सच्चाई

"युगे युगे राम": 'मिथिलेश दृष्टि' (पुस्तक - समीक्षा)

उत्सव धर्मिता 'परिवार' का मूल है