बच्चों के सही डेवलपमेंट के लिए फिजिकल और मेंटल एक्टिविटी क्यों है जरुरी ?

Why is physical and mental activity important for proper development of children? (Pic:.howtolearn)


इसमें कोई शक नहीं है कि एक्टिव और निरोगी काया पाना थोड़ी मेहनत का कार्य है। इसके लिए  प्रतिदिन चलना फिरना और अच्छे आहार का ग्रहण करना बहुत जरूरी  है। इन्हीं कार्यों की वजह से आप अपने शरीर को चुस्त-दुरुस्त रख सकते है।

 शरीर का एक्टिव रहना जितना बड़ी उम्र के लोगों के लिए जरूरी है उतना ही जरूरी है बच्चों के लिए भी, क्योंकि बच्चे परिवार में सबसे अनमोल और नाजुक  होते है। कहा जाता है कि अच्छी आदतें बच्चों में बचपन में ही प्रवेश कर जानी चाहिए जैसे कि सुबह समय पर उठना, सैर- व्यायाम करना, अच्छा खाना और खेलकूद  में हिस्सा लेना।  इन्हीं सभी आदतों के बीच एक सबसे बड़ी अच्छी आदत है व्यायाम, योगा करके खुद को तंदुरुस्त रखना आसान शब्दों में इसे फिजिकल एक्टिव रहना भी कहते है।  बच्चों को इनडोर(शतरंज,लूडो,कैरम,कार्ड गेम्स, बोर्ड गेम्स, म्यूजिकल चेयर,मार्बल्स,पिलो गेम)और आउटडोर गेम(  तैराकी, खो खो खेलना, बैडमिंटन, वॉलीबॉल आदि) ऐसे अनगिनत खेलों में भागीदार बनाएं या उनके साथ उनका दोस्त बनकर खेलें।

बच्चों का फिजिकल एक्टिव रहना उनके शरीर में ऊर्जा पैदा करता है जिससे उनका शारीरिक विकास होता है उनकी हड्डियां  और मसल्स मजबूत बनती है। इसके साथ-साथ उनके  मानसिक विकास पर भी अच्छा प्रभाव पड़ता है, जिस कारण वह हमेशा पॉजिटिव सोचते हैं और कुछ क्रिएटिव करते रहते है।

 तो आइए जानते हैं बच्चों के शरीर को एक्टिव और निरोग रखने की कुछ खास टिप्स:


  सुबह जल्दी उठने की आदत -  बच्चों के शरीर को एक्टिव रखने के लिए व्यायाम या अन्य फिजिकल एक्टिविटी होने के लिए  सुबह जल्दी उठने की आदत डालें यह आदत आगे चलकर उनके भविष्य में काम भी आएगी। सवेरे समय पर उठकर परिवार की किसी जानकार व्यक्ति की मदद लेकर व्यायाम और योगा के सही तरीकों को जानकर अभ्यास करना बहुत  लाभदायक होता है। बच्चों के साथ सैर पर  जाए और जोगिंग करें।


संतुलित आहार का सेवन-  बच्चों को शारीरिक और मानसिक रूप से एक्टिव रखने के लिए व्यायाम होने के साथ-साथ सही आहार का सेवन करना भी जरूरी है। आहार में बच्चों को हाई प्रोटीन, कैलोरी, विटामिन,  फाइबर  युक्त फल, हरी सब्जियां, जूस, फ्रूट, मिल्क आदि देनी चाहिए। तला, भुना, तेज मिर्च और चटपटा भोजन बच्चों के  स्वाद को तो बढ़ाता है परंतु उनको अपच और अन्य बीमारियों का शिकार भी  बना देता है।


स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण-  बच्चों का साफ-सुथरे माहौल में रहना बहुत जरूरी है। बच्चों की खेल से लेकर पढ़ाई करने तक का माहौल ऐसा होना चाहिए जिसमें वह खुशी और निडर होकर रह सके तभी उनका आत्मनिर्भर बढ़ेगा। किसी भी खेल के शुरू होने से पहले बच्चों को खेल के नियम, फायदे जरूर बताएं। हार, जीत और चोट लगने पर उन्हें समझाएं कि यह खेल-कूद का हिस्सा है, इसके बिना खेल अधूरा है। आपका इस तरीके से बताना आपके बच्चे में एक कॉन्फिडेंस लेवल बढ़ाएगा। 


उम्र और लिंग का रखें ध्यान-  किसी भी फिजिकल और मेंटल एक्टिविटी करवाते वक्त अपने बच्चों की उम्र और लिंग का जरूर ध्यान दें क्योंकि जरूरी नहीं कि प्रत्येक उम्र और लिंग के बच्चों के लिए एक ही एक्टिविटी और खिलौने हो। उम्र और लिंग के हिसाब से बच्चों की पसंद और नापसंद भी अलग होती है। खिलौने ऐसे खरीदे जिससे बच्चों का शारीरिक विकास के साथ मानसिक विकास भी हो।  जैसे कि हाई जम्प, लो जम्प, रस्सी कूदना, सीढ़ियां चढ़ना उतरना, रनिंग और पजल गेम, क्ले मेकिंग, आर्ट एंड क्राफ्ट आदि  ऐसे विकल्प बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद रहते है।


अच्छा आइडियल-  बच्चों में सही आदत डालने से पहले परिवार के सदस्यों और माता-पिता में वही सही आदतें होनी चाहिए, क्योंकि बच्चा जैसे अपने घर-परिवार में देंखता है वैसा ही सीखता और करता भी है। बच्चों को  बड़े-बड़े प्रेरणास्रोत लोगों के बारे में बताएं और उनकी कहानियां सुनाएं इससे बच्चे में बहुत गहरा अच्छा प्रभाव पड़ता है।

बच्चों को दें समय-  कई माता-पिता अपने बच्चों में समय नहीं दे पाते। जिस वजह से बच्चे को सही दिशा नहीं मिल पाती और वह काफी चीजों से वंचित रह जाते है।अपने बच्चों  के साथ बाहर घूमने या पिकनिक पर जाए और एक  यादगार पल बनाएं। बच्चों की बात को सुने और समझे। 


बच्चों को प्रोत्साहन दें - अपने बच्चों को अच्छे कार्य और नतीजे पर प्रोत्साहन या गिफ्ट दें। इससे बच्चे का मनोबल बढ़ेगा और वह फिजिकल एक्टिविटी के साथ-साथ मेंटली एक्टिविटी में अच्छे से भागीदार रहेगा।


 फिजिकल एंड मंथली एक्टिविटी बहुत से फायदे भी है:

फिजिकल एंड मेंटल एक्टिविटीज करने से बच्चों के शरीर ऊर्जा से भरा रहता है और बच्चे अनेकों बीमारीयों जैसे कि मोटापा, थायराइड, डिप्रेशन, दिल की बीमारी, आदि की चपेट में आने से बचते है। फिजिकल एक्टिविटी करने से बच्चों की शरीर से पसीना ज्यादा आता है जिस वजह से त्वचा रोग, हड्डियों में मजबूती, मसल्स टोनिंग, इम्यूनिटी पावर और शरीर में एक्स्ट्रा फैट नहीं बनता।

 

जरूरी नोट: जो बच्चे ज्यादा फिजिकल एंड मेंटली एक्टिविटी में शामिल रहते हैं उन्हें भूख भी ज्यादा लगती है और नींद भी भरपूर आती है, जो कि उनकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी है। अगर आपका बच्चा किसी वजह से बीमार है या उसका किसी भी एक्टिविटी में मन नहीं लग रहा तो उसे कुछ समय के लिए ब्रेक दें।

Article Title: Why is physical and mental activity important for proper development of children in Hindi

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप भी बच्चे को कम उम्र में स्कूल भेजने के पक्ष में हैं! तो जान लें ये सच्चाई

"युगे युगे राम": 'मिथिलेश दृष्टि' (पुस्तक - समीक्षा)

उत्सव धर्मिता 'परिवार' का मूल है