स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी: स्वामी रामानुजाचार्य का 'अप्रतिम' स्थल

विश्व का सर्वाधिक बड़ा सिटिंग स्टैच्यू, जो कि 302 फीट ऊँचा है, वह महात्मा बुद्ध का है, एवं वह थाइलैंड में स्थित है. वहीं दूसरे स्थान पर भारत में स्थित स्वामी रामानुजाचार्य का सिटिंग स्टैच्यू (बैठा हुआ) हैदराबाद में स्थापित हो चुका है, जिसकी उंचाई 216 फीट की है. फरवरी में स्वामी रामानुजाचार्य की इस भव्य प्रतिमा का लोकार्पण खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करने जा रहे हैं.

जैसा कि हमें पता है कि ज्ञान भूमि के नाम से, यश से भारत सदा ही सुशोभित रहा है, एवं वह ज्ञान स्वामी रामानुजाचार्य जैसे संतों से ही तो आया है. 

भारतवर्ष का एक-एक परिवार इस ज्ञान से लाभान्वित रहा है, एवं वह आगे भी इससे संस्कार ग्रहण करता रहे, ज्ञान प्राप्त करके आगे बढ़ता रहे, इसी हेतु से इस सिटिंग स्टैच्यू का निर्माण किया जा रहा है.

बता दें कि इस स्टैच्यू के साथ 108 मंदिर भी निर्मित किये गए हैं, जो विश्व भर में मौजूद आचार्य के मंदिरों का प्रतिनिधित्व करते हैं. इसके साथ-साथ 120 किलो सोने का इस्तेमाल करते हुए स्वामी रामानुजाचार्य की एक छोटी मूर्ति भी मंदिर के भीतर स्थापित की गई है. इसे ही स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी का नाम दिया गया है. खुद वैष्णव संप्रदाय के संत चिन्ना जीयर स्वामी की गाइडेंस में पूरे हुए इस प्रोजेक्ट पर 1400 करोड़ रुपए से अधिक खर्च हो चुके हैं. 

दैनिक भास्कर ने एक बेहतरीन फोटो स्टोरी तैयार की है, जिसे आपको अवश्य ही देखना चाहिए. अभी जाएँ इस लिंक पर

Article Title: Statue of Equality, Sri Ramanujacharya, Vaishnavaite Saint Bhagavad Ramanuja

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप भी बच्चे को कम उम्र में स्कूल भेजने के पक्ष में हैं! तो जान लें ये सच्चाई

"युगे युगे राम": 'मिथिलेश दृष्टि' (पुस्तक - समीक्षा)

उत्सव धर्मिता 'परिवार' का मूल है