सगाई- शादी के बीच के समय को 'गोल्डन टाइम' बनाने की कुछ यूज़फुल टिप्स

Significance of Sagai (Pic: muktaeventmanagers)


सगाई को मंगनी और अंग्रेजी में इंगेजमेंट या रिंग सेरेमनी भी कहते हैं। यह शादी से पहले लड़का लड़की के रिश्ते को पक्का करने की रस्म होती है। एक तरह का रिश्ता पक्का होने की मोहर लग जाती है जिससे जीवनसाथी की खोज खत्म और आपको आपका हमसफर मिल जाता है,बस उससे शादी होना बाकी रह जाता है। सगाई से लेकर शादी का समय कुछ महीनों या दिनों का होता है जिसे गोल्डन टाइम्स फॉर कपल्स भी कहा जाता है। जिसमें दोनों कपल्स आपस में मिलते हैं बात करते हैं और एक दूसरे के प्यार में पड़ जाते हैं। आजकल स्मार्टफोन और सोशल मीडिया ऐप जैसे कि व्हाट्सप्प, फेसबुक, इंस्ट्रग्राम के जरिए सगाई के बाद दिन-रात ऑडियो और वीडियो कॉल होना नॉर्मल सी बात हो गई है। 

यह एक तरीके से अच्छा भी है कि आप अपने पार्टनर को समय दे पाते हैं और उसे समझ पाते हैं और अपने विचारों को भी उसके सम्मुख प्रकट कर पाते हैं। यू शादी से पहले मिलना बात करना आपके अंदर हिचकिचाहट खत्म कर देता है और आप अपने पार्टनर के साथ एक अच्छे दोस्त बन जाते हैं।
वहीं जरूरत से ज्यादा बात करना या समय देना आपकी सेल्फ  रिस्पेक्ट को भी ठेस पहुंचा सकती है।आजकल कि सोशल मीडिया दुनिया से इंस्पायर होकर हम ज्यादा ओपन माइंड हो गए हैं परंतु जरूरी नहीं कि हमारा पार्टनर भी वैसा ही हो। जाने अनजाने में भी कही कोई बात रिश्तो में उलझन पैदा कर सकती है।

 अगर आप की भी सगाई हो गई है, तो सगाई और शादी के बीच मिले समय को खुलकर जीये अपनी गलत आदतों को सुधारें और सही तरीके से अपने हमसफर को समय दें तो आइए जानते हैं कुछ यूजफुल टिप्स जो आपके लिए सहायक बनेंगे।

दोस्त बनें
सगाई के बाद अपने पार्टनर के साथ एक दोस्ती वाला रिश्ता कायम करें उसके नेचर उसकी पसंद नापसंद को जाने ईमानदारी के साथ उसकी बातों को किसी और के साथ शेयर ना करें ऐसा करने से आप भविष्य में उसके लिए एक विश्वास ने व्यक्ति साबित होंगे और आपका रिश्ता और ज्यादा मजबूत रहेगा।

जरूरत से ज्यादा ना मिलें
 ज्यादातर कपल सगाई के बाद मिलना,लंच- डिनर पर जाना, घूमना, फिरना ज्यादा करते हैं जो कि सही भी है इससे आप अपने पार्टनर को समय दे पाते हैं और कुछ यादगार पल भी कैद कर पाते हैं लेकिन रोज रोज मिलना आपको नजदीक लाने की वजह आपके बीच  दूरियां पैदा कर सकता है इसीलिए ज्यादा मिलने वाले कांसेप्ट को अपने  दिमाग से हटा दें ।

बातों को बहस का रूप ना दें
मिलकर बात करने में या ऑडियो-वीडियो कॉल में बात करते  वक्त अपनी बातों को सहज कर बोले, कुछ ऐसा ना बोल दे जिससे सामने वाले को बुरा महसूस हो। अगर आपका मन बात करने का ना हो तो कुछ समय के लिए शांत ही रहे। गुस्से या  चिड़चिड़े स्वभाव से बात ना करें, अन्यथा एक जंग खड़ी हो सकती है । संभव हो तो अच्छे विचारों पर ही बात करें। ऐसा करने से आपकी इमेज भी अच्छी बनेगी और ज्ञान भी बढ़ेगा।

खर्चीली आदत को छोड़ें
 कपल के लिए जरूरी है कि वह बचत की आदतों को अपनाकर सेविंग कांसेप्ट को शुरू कर दें।  महंगे उपहार और खरीदारी में फिजूलखर्ची करने से बचे।आगे चलकर यह आपके लिए ही लाभदायक रहेगा।

एटीट्यूड ना रखें
अगर आप हाई प्रोफाइल जॉब या  कोई नौकरी पैसे वाले हैं तो इस बात का घमंड अपने पार्टनर को ना दिखाएं। अपनी प्रोफेशनल लाइफ को पर्सनल लाइफ के साथ मिक्समैक्स ना करें। यह बात लड़का और लड़की दोनों पर लागू होती है ।

शारीरिक संबंध बनाने से बचें
 चाहें आप लव मैरिज कर रहे हैं या अरेंज मैरिज शादी से पहले शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। यह आपके और आपके पार्टनर के बीच दूरी पैदा कर सकती है।  कुछ चीजें समय आने पर ही अच्छी लगती है शादी और सगाई के बीच मिले टाइम को अच्छे विचारों और कामों पर लगाएं। यहआपके आने वाले  वैवाहिक जीवन के लिए अच्छा रहेगा।

पास्ट को करें बाय-बाय
आजकल  के समय पर सभी के अपने फ्रेंड या पास्ट लव-क्रश रहता ही है। ऐसे में अगर आप  किसी वजह से अपने लवर से शादी नहीं कर पा रहे हैं या जुदा हो गए हैं, तो इस बात को पास्ट में ही छोड़ दें आने वाली जिंदगी की एक नई शुरुआत करें।बीती बातों को आने वाले कल के साथ ना जोड़ें। कुछ लोगों को फ़्लर्ट करने की आदत भी होती है जो सगाई के बाद रिश्तो में दरार पैदा कर देती है इसीलिए इस आदत को छोड़ दें ।

Comments

Popular posts from this blog

क्या आप भी बच्चे को कम उम्र में स्कूल भेजने के पक्ष में हैं! तो जान लें ये सच्चाई

"युगे युगे राम": 'मिथिलेश दृष्टि' (पुस्तक - समीक्षा)

उत्सव धर्मिता 'परिवार' का मूल है